हारदा में स्थित पटाखे फैक्ट्री में लगी अचानक की आग

मध्य प्रदेश की हारदा में स्थित पटाखे फैक्ट्री में लगी अचानक की आग से आज हुई कई लोगों की मौत और इतना भयानक विस्फोट हुआ जिसको सुनकर आपकी भी आत्मा देहल उठेगी आज छह फरवरी को सुबह साढे ग्यारह बजे अचानक मध्य प्रदेश के हारदा में स्थित एक फटाका फैक्ट्री में आग लग जाती है और इतना बडा विस्फोट हो जाता है की फैक्ट्री के डेढ़ किलोमीटर के एरिया में एकदम तबाही मचा देता है एक ऐसा विस्फोट जो कई के घर उजाड गया कई को अपनी लपेट में ले गया कई मजदूर अभी भी फैक्ट्री के मलवा में दबे हुए और कई मासूम लोग अपने घरों की दीवारों के नीचे दब गए हम बता दें आपको की विस्फोट इतना भयानक का था की जिसके रेडिसन में फैक्ट्री से डेढ़ किलोमीटर दूर तक के घरों की दीवारें टूट गई है और कई लोग मलबे में अभी भी अपनी सांसे गिन रहे हैं और धमाके की आवाज ऐसी जिसे सुनकर आपके भी कानों के पर्दे फटे के फटे रह जाएंगे मौजूद जानकारी के अनुसार फैक्ट्री में पचास टन से अधिक बारूद था जिसमें लापरवाही की वजह से या तो सुरक्षा सावधानियां ना होने के कारण अचानक विस्फोट हो जाता है और कई लोगों को अपनी आगोश में ले लेता एक ऐसा भयानक विस्फोट जो हजारों लोगों के दिल को दहला देता है मौजूद जानकारी में बताया जा रहा है कि एक सो सत्तर लोग अभी भी मालवा में दबे हुए हैं और डेढ सौ लोग करीब घायल है और एक सौ पचास लोग जीनका सब बरामद किया गया है वह इस हादसे में अपनी जान खो बैठे है

मध्य प्रदेश के हारदा में स्थित पटाखा फैक्ट्री में धमाके के बाद लगी आग पर अभी तक काबू नहीं पाया जा सका है। इस धमाके में अभी तक एक सौ पचास की मौत की खबर है जबकि एक सौ पचास से ज्यादा घायल बताए जा रहे हैं। हादसे में घायल लोगों को अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। मुख्यमंत्री मोहन यादव ने घटना की जानकारी केंद्र सरकार को दी है और इस संबंध में अधिकारियों के साथ मीटिंग की है। सीएम मोहन यादव ने पीडीत परिवारों के लिए चार लाख रुपये की आर्थिक मदद का ऐलान किया है और कहा है कि घायलों का फ्री इलाज किया जाएगा।

 

पीएम नरेंद्र मोदी ने भी हारदा में हुए हादसे पर दुख जताया है। ” पी एम एसीटेंट” ने बताया कि पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा, “मध्य प्रदेश के हारदा में एक पटाखा फैक्ट्री में दुर्घटना के कारण हुई लोगों की मृत्यु से व्यथित हूं। उन सभी के प्रति संवेदना जिन्होंने अपने प्रियजनों को खोया है। जो घायल हुए हैं वे जल्द से जल्द ठीक हों। स्थानीय प्रशासन सभी प्रभावित लोगों की सहायता कर रहा है। प्रत्येक मृतक के परिजनों को “पी एम एन आर एफ” से चार लख रुपए दिए जाएंगे।

 

प्राप्त जानकारी के अनुसार, पटाखा फैक्ट्री से फैली आग आसपास के घरों में भी फैल गई, इसी वजह से यहां स्थिति को काबू पाने में दिक्कतें आ रही हैं। अस्पताल की गाडीयां मौजूद हैं और स्थिति पर काबू पाने की कोशिश कर रही हैं। आस पास के जिलों से भी फायर बिग्रेड की गाडीयों को बुलाया गया है। प्रशासन के आला अधिकारी भी घटना स्थित पर मौजूद हैं। कहा जा रहा है कि कई मजदूर अभी भी पटाखा फैक्ट्री में फंसे हुए हैं।

 

घटना स्थल पर पहुंचे एमपी सरकार के मंत्री उदय प्रताप सिंह ने बताया कि उन्होंने कलेक्टर से बात की है। घायल लोगों को होशंगाबाद और भोपाल शिफ्ट किया जा रहा है। एक सौ पचास की पुष्टि हुई है। एस डी आर एफ की टीम एडीजी के नेतृत्व में मौके पर मौजूद है। करीब एक सौ बीस घायल हैं।

न्यूज एजेंसी ए एन आई द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, हारदा के बैरागढ गांव में मगरधा रोड पर अवैध रूप से संचालित फैक्ट्री में हुए धमाकों की वजह से सुबह साढे गयारह बजे आग लग गई। धमाके इतने पावरफुल थे कि फैक्ट्री के आसपास के मकानों और दुकानों के शीशे टूट गए। स्थानीय लोगों ने बताया कि धमाके की वजह से उन्हें ऐसा लगा कि भूकंप आ गया हो।

लोकल मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, इस हादसे में घायल होने वाले लोगों की संख्या में इजाफा हो सकता है। फैक्ट्री में हुए धमाकों की वजह से आसपास के मकानों में दरारें आने की भी खबर है। जिस कंपनी में धमाका हुआ, वजह हरदा के मगरघा रोड पर स्थित है। इस कंपनी में सुबह के समय धमाके हुए और इसके बाद आग ने विकराल रूप ले लिया और कंपनी के अंदर और बाहर अफरातफरी मच गई। कंपनी में हुए हादसे के धमाके की आवाज कई किलोमीटर दूर तक सुनाई दी। इसी वजह से शहर के घंटाघर के आसपास मौजूद पुरानी इमारतों में दरार आने की भी खबर है।

 

 

छह फरवरी की सुबह मध्य प्रदेश का हारदा जिला अपने इतिहास की सबसे काली तारीख में दर्ज हो गया। शहर से लगी पटाखा फैक्ट्री जिसके पास से गुजरना कई बार हुआ, अंदाजा नहीं था कि एक के बाद एक धमाकों से दहल उठेगी। धमाके, विस्फोट भी इतने भीषण और भयावह लगा जैसे इजराइल और फिलिस्तीन या फिर रूस यूक्रेन में हो रहे हमलों की आवाजे हों।

 

 

छह फरवरी की सुबह मध्य प्रदेश का हारदा जिला अपने इतिहास की सबसे काली तारीख में दर्ज हो गया। शहर से लगी पटाखा फैक्ट्री जिसके पास से गुजरना कई बार हुआ, अंदाजा नहीं था कि एक के बाद एक धमाकों से दहल उठेगी। धमाके, विस्फोट भी इतने भीषण और भयावह लगा जैसे इजराइल और फिलिस्तीन या फिर रूस यूक्रेन में हो रहे हमलों की आवाजे हों।

 

 

 

एक शहर जो रोजाना की तरह सुबह अपनी आदत में गुलजार था। उसकी फिजा में बसंत था। दिल में गुजरती सर्दी के जाने की गर्माहट थी। उसके आसमां पर मौसम अपनी करवट के साथ बादलों में घूम रहा था। खुली सी धूप खिली हुई थी। बच्चे स्कूलों से लौटने की खुशी में मगन अपनी कक्षा में दर्ज थे। हौले-हौले बाजार शादियों की रौनक में गुम होने को बेकरार था और जहां एक सुहाना सा दिन अपनी खामोशी में फैल रहा था कि अचानक शहर की फिजा चिडीयों की चहचहाहट कृंदन और शोर में डूब गई। आसमान में अंधेरा छा गया और जमीन को हिला देने वाली आवाज भूकंप की शक्ल में उस शहर को दहला गई।

 

 

 

सुबह के सवा ग्यारह बजे विस्फोट और धमाकों के क्षणभर के सिलसिले ने मानों माध्य प्रादेश के हारदा जिले को दहशत से भर दिया। कुछ ऐसा हुआ कि चंद मिनट के भीतर छतों पर कपड़े सुखाती औरतें चीखती, चिल्लाती बदहवास सी भागती नीचे की और दौड पडी। छत की ओर भागते हुए इस चश्मदीद ने सड़कों से गुजरते लोगों को डर और दहशत से भागते देखा तो नजरें नीचे की ओर नहीं, बल्कि आसमां की ओर उठ गईं। जहां आसमान में सूरज को ढंक लेने वाला गुबार फैला हुआ था जो धीमे-धीमे उजाले को निगलता चला गया। डर और आशंका दिलों में दहलाती उससे पहले सडकों पर दौडती फायर ब्रिगेड की गाडीयां, एम्बुलेंस का सलौब बेसब्र सा दौडता उस धुएं, आग और आग के दहकते शोलों की ओर भागता जा र

हा था।

 

Leave a Comment

Best phone under 20000 आपके रोंगटे खड़े होने लगेंगे जल्दी देखे! Redmi 13 सबकी बोलती बंद करने के लिए जल्दी ही लॉन्च किया जाएगा मार्केट में Vivo T3 फोन के Features आपको हैरान करने वाले हैं जल्दी देखे chandrayan 3 कौन है यह खूबसूरत एक्ट्रेस जाने पूरी जानकारी हिंदी में